Thursday, March 25, 2010

तेरे दामन पर गिरा क़र आंसू आज रोने दे ।
कई रातों से सोया नहीं आज जी भर सोने दे॥
रोके रास्ता खड़ी हैं मेरा मौत न जाने कब से,
दो पल ही हैं तेरी बाँहों में फ़न्हा होने दे ॥
क्या बात हैं क्यूँ आसू हैं तेरी आँखों में ।
बुला रहा हैं उस जहाँ में कोई ,मुझे जाने दे॥
अब गर जिन्दा रहा तो जीने नहीं देगीं दुनिया,
इस गमे दुनिया से दूर नई दुनिया बनाने दे॥
गम न करना सदा खुश रहना मेरे बगैर ,
मुस्कुराते क़र विदा ,मेरे यारो को जनाजा उठाने दे।

Monday, March 22, 2010

मेरी DIARY के पन्ने..PART 5 (LAST)

SATURDAY SEP 17,2005

शनिवार की सुबह ३ बजे उठ गया क्यूंकि सुल्तानपुर की ट्रेन सुबह ४ बजे थी। ट्रेन सही समय पर आई। स्टेशन पर हम लगभग १५ मिनिट पहले ही पहुच गए थे।

तीन दिन में ही अल्लाहाबाद अपना सा लगने लगा था । या कहूँ वहां से जाने का मन नहीं कर रहा था। लेकिन जाना तो था ही। ट्रेन चल पड़ी। मुझे एक बढ़िया सीट मिल गई ।

ट्रेन में ज्यादा भीड़ नहीं थी ....सुबह का समय था इसलिए । खिड़की के बहार अंधेरा था। पर न जाने क्या देखने की कोशिश में था मैं । पिचले तीन दिन आँखों के सामने गुजरने लगे ........आनन्द भवन .....कंपनी बाग़.......MUSEUM........बड़े हनुमान जी ........गंगा यमुना संगम स्थल .......... सभी आँखों में गुमने लगे। यहाँ तक की वो गलियां जहाँ से हम रोज गुजरते थे। वो दुकान जहाँ सुबह का नाश्ता करने जाता था। वो चाय की दुकान ,जहाँ शाम को चाय पी जाती थी। प्रयाग स्टेशन जहाँ से सुबह का अखबार ले के आता था।
जहाँ अल्लाहाबाद धार्मिक यात्रियों के तीर्थ स्थल हैं ; वाही विधार्थियों के लिए भी किसी तीर्थ स्थल से कम नहीं हैं अल्लाहाबाद। कारन तो अल्लाहाबाद University । दूसरा वहां की कोचिंग बढ़िया हैं चाहे वो B.sc की हो या फिर PMT , PET हो या IAS . हर तरह की कोचिंग मिल जाती हैं।
वहां हर घर में विद्यार्थी रूम लेके रहते हैं। पूरा शहर ही हॉस्टल बना हुआ हैं। सोनू जहाँ रहता था वो घर यादवो का था। लाइट की कोई प्रॉब्लम न थी। य्दादा लाइट नहीं जाती थी। पानी की भी कोई समस्या न थी अच्छा इलाका था ।
सोनू ने साल भर वहां रह क़र बहुत कुछ सीख लिया था। खाना तो बहुत बढ़िया बना लेता था। मुझे कुछ भी नहीं करने देता।
अल्लाहाबाद घूमने में बड़ा मजा आया, क्यूंकि मौसम ने बहुत अच्छा साथ दिया था। तीन चार दिन धुप ही नहीं निकली ,गर्मी ने परेशां नहीं किया, ठंडी हवा में घूमने का मजा ही दुगुना हो गया था।
सूरज निकल आया था .......खिड़की से बहार दिखने लगा था। खेत .....बाग़ .......नदिया .....नहरे.....सब दिखने लगे थे। नहीं दिखा रहा था तो वो शहर जो पीछे छुट गया था ।
सुल्तानपुर ट्रेन ८ बजे सुबह पहुची । ९ बजे तक मैंने पांडेयपुर में था। ................................

आज भी अलाहाबाद में यादो में बसा हुआ हैं , एक दिन दुबारा जाउगा गंगा माँ के शहर , चन्द्र शेखर के शहर, नहेरु चाचा के शहर..........

Saturday, March 20, 2010

मेरी DIARY के पन्ने PART 4

FRIDAY SEPT. 16, 2005

सोनू ११ बजे कोचिंग से आया । तब हमने संगम जाने का PROGRAMME बनाया। दोपहर में आराम करने के बाद हम घूमने निकले। रुक रुक कर हल्की हल्की बूंदाबांदी हो रही थी। सोनू का ममेरा भई नीरज वाही कुछ दूर पर कमरा ले कर रहता था। वो B.SC. कर रहा था। हम उससे मिलने गए। १५-२० मिनिट रूककर हम संगम देखने के लिए चल दिए। वहां से संगम काफी दूर पर था, इसीलिए हमने वहां जाने के लिए साइकिल नीरज से ले ली।

लगभग १/२ घंटे बाद हम संगम के किरणे पहुच गए। जैसे ही हम वहां पहुचे बारिश शुरू हो गई । बारिश के तेज होने से पहले हमने वाही पास में एक मंदिर में शरण ली। लगभग १५ मिनिट बाद बारिश बंद हो गई।

बारिश के बंद होते ही हम उस प्रसिद मंदिर की तरफ चल दिए । उस मंदिर का मान "बड़े हुनमान जी" हैं। उस मंदिर की इन्टरनेट वेबसाइट भी है ये जान कर बहुत अच्छा लगा। वेबसाइट हैं.......... http://www.badehanumanjee.com/

उस समय हनुमान बाबा के दर्शन नहीं कर सकते थे। क्युकिं दोपहर २ बजे बाबा का श्रृंगार किया जाता हैं । इसी कारन दर्शनाथियों को अनदार दर्शन के जाने पर मनाही थी। जब हम पहुचे बाबा का श्रृंगार किया जा चूका था। आरती की तयारी शुरू की जा रही थी, शायाद ५ बजने वाले थे। हमने बहार का मौसम देखा । बारिश फिर से शुरू हो गई । हमने मंदिर में बने बरामदे में ही खड़े रहना ठीक समझा । लगभग ५ मिनिट बाद वहां के एक पुजारी जी से हमने पूछा के आरती कब शुरू होगी । तब उन्होंने बताया के अभी उसकी ही तयारी शुरू की जा चुकी हैं।

कुछ देर बाद कुछ और पुजारी आये। उन्होंने वहां से सामान हटाना शुरू कर दिया । आरती की थाल बाबा के आगे रख दी गई। फिर एक बड़े पुजारी जी आये , उन्होंने आरती शुरू कर दी।

आरती शुरू होते ही वहां अच्छी खासी भीड़ हो गई। आरती लगभग १०-१५ मिनिट तक जरी थी। उस समय ऐसा लग रहा था। जैसे आरती में सभी भगत जन कहीं खो गए । एक पुजारी ने एक बहुत बड़ा नगाड़ा बजा रहा था। सभी भगत जन वहां लगी घंटियों को बजा रहे थे। कुछ भगत जन ताली बजा कर बाबा का नाम सुमिरन कर रहे थे। कुछ भगत जन आँखे बंद कर ध्यान मगन थे। मेरे हाथ कब जुड़ गए मुझे पता नहीं चला।

बाबा की आरती करने के बाद पुजारी बाहर की तरफ आने लगे। तब ही दुसरे पुजारी ने बीच में खड़े लोगो को हट जाने का इशारा किया। तब लोगो ने बीच में एक रास्ता बना दिया। वह पुजारी वहां से निकल कर मंदिर के द्वार पर बने एक स्तम्भ की आरती करने लगा। साथ ही में वहां से कुछ दूर पर नज़र आ रही गंगा माँ की आरती भी कर रहा था।

आरती समाप्त हुई । अब सभी को अंदर जाने की आनुमति दे दी गई। अंदर पहुचने पर बाबा की आद्भुत स्वरुप के दर्शन हुवे । अकसर मंदिरों में बाबा की कड़ी प्रतिमा देखने को मिलती हैं। शायद भारत में यह आकेला मंदिर हैं जहाँ बाबा की प्रीतम भूमि पर हैं।

हनुमान जी की प्रतिमा जमीन पर थी। उसके आस पास एक फुटपाथ बना था, जहाँ खड़े हो कर बाबा के दर्शन कर सकते हैं। वहां के पुजारी प्रतिमा के पास खड़े थे।

हनुमान बाबा का श्रृंगार बहुत सुन्दर किया हुआ था। बाबा की प्रतिमा के काँधे के पास RAAMJI LAXMAAN की छोटी छोटी प्रतिमा थी। दोनों को पीले वस्त्र पहनाये गए । बाबा के पाँव के पास अहिरावन की मूर्ति थी। सभी के मुकुट चांदी के बने हुवे थे। बाबा का श्रृंगार तुलसी के पत्तो से किया हुआ था। हमको प्रसाद के रूप में वाही तुलसी के पाटते दिए गए ।हम दर्शन कर के बहार आये तो सोने ने बताया की हर साल सावां के महीने में जब बारिश में गंगा जी का पानी बाद जाता हैं तब गंगा का पानी इस मंदिर तक चला आता हैं। और तब तक पानी कम नहीं होता जब तक की बाबा की प्रतिमा तक न पहुच जाये। हालिकं मुझे इस बात को स्वविकार करने में मुश्किल हो रही थी, पर बाद में नानी ने जब बताया तब यकीं हो गया।
हमने एक व्यक्ति से उस स्थान का पता पूछा जहाँ गंगा यमुना का संगम स्थल था। हम उस स्थल की तरफ चल दिए।
थोड़ी देर बाद हम संगम स्थल पर थे। पक्की सड़क थोड़ी दूर तक ही आकर ख़त्म हो गई थी। आगे कच्छा रास्ता था, जो बारिश होने की वजह से किछाद भरे रस्ते में बदल चूका था। बच बचा कर संगम स्थल तक पहुचे । दूर तक नदी ही दिखाई दे रही थी । एक तरफ से गंगा ,दूसरी तरफ से यमुना आ कर मिल गई थी। दोनों के मिलन स्थल को ही संगम कहते हैं। इस संगम पर हिन्दू धर्म में स्नान करने का बड़ा महत्व हैं । नदी में KAFI नावे भी थी। और उस नावो पर कई लोग भी बैठे थे।
नदी में कई लोग स्नान भी कर रहे थे। हमने भी स्नान करने का मन हुआ परन्तु उचित कपडे न होने की वजह से हमने याह विचार छोड़ दिया। वाही आधा घंटा रुक कर NADIYO की हलचल देखने लगे।
दो नदियाँ परन्तु दोनों ही अलग अलग स्वभाव की। जहाँ गंगा का पानी तेज़ भाहाव में था, वहीँ यमुना के पानी की रफ़्तार कम थी।
वहीँ से लगभग २ -३किलोमीटर दूर एक पुल नज़र आ रहा था, यमुना पर बना था। यह पुल केवल दो बड़े खम्बो पर टिका था और लगभग १०४ तारो से बाधा था। मन तो उस पुल को समीप से देखने को कर रहा था। परन्तु अंधेरा होने लगा था तो हमने लौट जाना ही उचित समझा।
७ बजे हम राम प्रिय चल दिए...................

Friday, March 19, 2010

मेरी DIARY के पन्ने PART- 3

THURDAY SEP. 15, 2005

आज हम कंपनी बाग़ जाने हैं। इसीलए सुबह जल्दी उठ गए । पर दोपहर तक रुकना पड़ा। कारण बारिश । दोपहर १ बजे हम घूमने निकले । बारिश बंद हुवे अभी एक घंटा ही हुवा था। अच्छा मौसम बना हुआ था। बादल अभी भी थे।

लगभग २ बजे हम बाग़ में थे। बाग़ बहुत बड़ा व् सुंदर था । हर तरफ हरियाली नज़र आ रही थी। दोपहर होने के कारण ज्यादा भीड़ नहीं थी ; बस कुछ ही लोग नज़र आ रहे थे।

उस बाद को तीन हिस्सों में बटा था।

1. बड़ा बगीचा

2. आजाद पार्क

3. ALLAHABAD मुसयूम

बाग़ में इधर उधर घुमते रहे। फिर एक जगह बैठ गए । वाही पास में किसी की मजार बनी थी। मजार भी काफी अच्छी हालात में थी और खूबसूरत भी लग रही थी। पर मालुम न चल सका मजार किस की थी।

काफी वक़्त गुजार लेने के बाद हम आजाद पार्क की तरफ चल दिए। यही पर अंग्रेजो के साथ मुबकले में चन्द्र शेखर आजाद शहीद हुवे थे।

वो स्थान पवित्र था, जहाँ पर आजाद ने आखिरी सांस ली थी। उस स्थान पर किसी को भी बिना चप्पल जुटे उतारे जाने नहीं दिया जाता था। वहा पर एक बोर्ड भी लगा हुवा था के चप्पल जुटे उतार कर शहीद को नमन करे।हमने भी वैसा ही किया । सचमुच में बड़ा पवित्र स्थान था। उस शहीद को मैंने और सोनू ने दो मिनिट तक मौन रह कर नमन किया। उस जामुन के पेड़ के नीचे आजाद की समाधी आज भी हम सब को याद दिलाती हैं के ये आजादी जो आज हम को मिली हैं उसके पीछे न जाने कितने जाने अनजाने शहीदों के बलिदान के बाद मिली हैं। सलाम हैं उस वीर पुरुष को , जिसने कभी अंग्रेजो से हार नहीं मानी ; मौत भी खुद चुनी। खुद को मौत दी पर अंग्रेजो के हाथ नहीं आया। अंग्रेजो ने ये दिखया के आजाद उनकी गोली का शिकार हुआ ,जबकि आजाद ने खुद अपना बलिदान दिया था। उस सचे सैनिक को नम आँखों से नमन कर हम MUSEUM की तरफ चल दिए।

MUSEUM के अंदर जाने का 5/- टिकिट रखा हुआ था। 5/- भारतीयों के लिए था। विदेशियों के लिए 100/- टिकिट था। टिकिट ले कर हम अंदर गए। हमारी टिकिट एक सिपाही ने जाची । फिर अंदर जाने की इज्जात दे दी

अंदर सबसे पहले आजाद की बंदूख राखी हुई थी। और वाही पर एक तस्वीर भी थी; जो आजाद की शाहदाद के बाद की थी। काफी देर तक हम उसी बंदूख और तस्वीर को देखते रहे।

फिर आगे चल दिए। वहा अगल अगल विभाग बना रखे गए थे। देखने को बहुत कुछ था।

कहीं पुराने जमाने की मुर्तिया थी, कहीं पुराने जमाने के सिक्के तो कहीं पुराने जमाने के बर्तन , कहीं दुर्लभ जानवरों के मृत शारीर को भूसा भर कर लगा रखा गया था , तो कहीं राजे महाराजो के हथियारों की प्रदर्शनी । कहीं जवाहार लाल से सम्बंधित वस्तुवे तो कहीं सुमित्रा नन्द पंथ की। कहीं पुराने समय की पेंटिंग तो कहीं आधुनिक पेंटिंग्स । कहीं बुक्स तो कहीं देवी देवताओ के चित्र ।

हम लगभग 3 घंटे घुमते रहे। वहां अच्छी खासी भीड़ थी। सभी MUSEUM की प्रसंसा कर रहे थे। मेरा भी दिल वाह वाह कर रहा था। सच कहूँ तो वहां से आने का दिल बिलकुल भी नहीं था

फिर हम MUSEUM से निकले और राम्प्रियाकी तरफ चल दिए.

Saturday, March 13, 2010

मेरी DIARY के पन्ने PART 2



बुधवार 14 SEPTEMBAR, 2005



सुबह जल्दी उठ गए। सोनू अपनी कोचिग चला गया। जो सुबह 7 बजे से थी 11 बजे तक। मैं रूम पर था। सुबह नहाकर प्रयाग स्टेशन तक चला गयाघूमने के लिए। सोनू दास बजे तक ही लोट आया था।


दोपहर बाद खाना खा कर घूमने का निश्चय किया। सुबह से बादल छाये थे ठंडी हवा बह रही थी । लगभग तीन बजे हम आन्नद भवन घूमने निकले।

हम आन्नद भवन पैदल ही गए। पैदल चलने का मन मौसम की वजह से हुआ। ठन्डे मौसम में मजा दुगुना हो गया। आन्नद भवन के रास्ते में ALLAHABAD UNIVERSITY का ARTS DEPARTMENT का कॉलेज था।

पर फिलहाल हमारा मन आन्नद भवन जाने का था। हम आन्नद भवन ठीक समय पर पहुचे थे। अगर एक दो घंटे लेट हो जाते तो शायद आन्नद भवन बंद हो गया होता।

आन्नद भवन

यही पर हमारे देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नहेरु जी का जन्म हुआ था। यह भवन उनके पिता जी श्री मोती लाल नेहरु जी का था।

जैसे ही हम हम अंदर ENTER हुवे वो खुबसूरत भवन दिखाई दिया। वेसे वो बहुत ज्यादा विशाल न था पर उस भवन पर एक नज़र पड़ते ही दिल पर उसका जादू चढ़ गया। चारो तरफ बाग़ बना था। हरियाली चारो तरफ दिखाई दे रही थी। हालाकि फूल ज्यादा न थे, पर फूल हो या न हो ; कोई फर्क नहीं पड़ता था। क्युकी आन्नद भवन फूल से कम नहीं था।


यह भवन इंदिरा गाँधी जी ने सत्तर के दशक में नगर निगम को सौप दिया था। इस भवन की हर चीज़ लाजवाब लग रही थी। हम घुमते हुवे एक कमरे की तरफ गए जहाँ जवाहर लाल के जीवन के सफ़र से जुडी तस्वीरे लगी हुई थी। इस वक़्त आँखे बंद करता हु तो वो सभी तस्वीरे समाने दिखाई देती हैं।


वहा SOUTH INDIAN भी आये हुवे थे। वे सभी उन तस्वीरो को बड़े उत्साह से देख रहे थे । मैं भी बड़े इत्मिनान से देख रहा था पर शायद सोनू उनको देखने में कम ही दिलचस्पी ले रहा था।

कोई बात नही मुझे तो बहुत अच्छा लग रहा था। तस्वीरे देख कर .भवन की तरफ गए। उसके दरवाजो पर शीशे लगे थे। अंदर लाल जी के द्वारा USED FURNITURE रखा हुआ थाहमने घूम घूम कर उन सामानों को देखा । फिर वहा से निकल कर पास में बने स्वराज भवन की तरफ गए। वहा बने एक हाल में एक शो चलता हैं जो जवाहर लाल नेहरु पर बनी कोई DOCUMENTRY FLIM थी।

हमने वो शो न देखने का सोचा। स्वराज भवन से निकल क़र हम आन्नद भवन आ गए । वाही एक रूम में एक बुक शॉप थी, बहुत सी बुक्स थी, जो सेल के लिए राखी गई थी। मुझे एक बुक पसंद आ गई जो मैंने खरीद ली ।

बुक शॉप से निकल क़र हम गार्डेन में आ गए। गार्डेन की दूसरी तरफ हाल सा था। सोनू से पूछने पर पता चला के वो तारामंडल हैं .पर वक़्त वो बंद था।


मौसम सुहाना था। ठंडी ठंडी हवा चल रही थी। मेरा दिल चाह रहा था के यही पर बिठा रहू, पर आगे भी जाना था। फिर हम आन्नद भवन से निकल क़र बहार आ गए। कुछ दूर जाने पर humhe एक मंदिर मिला जिका नाम था , भरद्वाज आश्रम ,भगवान् राम अपने वन वास के समय ऋषि भरद्वाज से मिलने यही पर आये थे, ऋषि ने भगवान् को ज्ञान की बातें बताई थी।

मंदिर से आगे गए तो university के समाने आ गए । यह science डिपार्टमेंट था। पर हम अंदर न गए। आगे गए तो university road पर आये। यहाँ पर सस्ती दामो पर बुक्स मिल जाती हैं।

फिर थोडा यहाँ वहा घुमते रहे । शाम को सात बजे तक रूम पर थे।

रात में दिन भर की सैर के बारे में सोचता रहा। आन्नद भवन ,भरद्वाज आसाराम , इन सब के बारे में सोचता रहा ।

हालाकिं अल्लाहाबाद महानगर हैं , पर यहाँ सफाई पर धयान कम ही दिया जाता हैं । जहा तह कूड़ा मिल जाता थ। पर कोई बात नहीं अपनी अपनी जिम्मेदारिय होती हैं।

रात में थके होने के कारन जल्दी सो गए। सोने से पहले कल के programme के बारे में सोच लिया था। कल हम कंपनी बाग़ जाने वाले हैं।

Friday, March 12, 2010

मेरी diary के पन्ने

हम सभी diary लिखते हैं । मैंने भी लिखा करता था। पर अब व्यस्त रहने की वजह से नहीं लिख पता। मेरी diary ; जो खो गई थी , कल अचानक मेरे हाथ लग गई।
बात उन दिनों की हैं जब गर्मियों की छुटिया चल रही थी । मैंने अपनी नानी के गाँव (पांडेयपुर) गया था। इस बार में अकेले ही नानी के गाँव गया था। तभी मुझे अल्लाहाबाद जाने का मौका मिला। सोनू जो मेरी नानी के घर के पास रहता था। उसके साथ अल्लाहाबाद घूमने का आँखों देखा हाल मैंने diary में लिखा। उसी diary के पन्ने पेश हैं ।
**************************************************

मगलवार 13 september, २००५

पांडेपुर ,सुल्तानपुर

दो दिन पहले रविवार को सोनू अल्लाहाबाद से आया था। उससे मिलकर अल्लाहाबाद घूमने का विचार किया। वेसे तो अल्लाहाबाद जाने की permission मागने की हिम्मत तो नहीं हो रही थी। अम्मा (नानी) से तो बिलकुल भी नहीं। पर मैंने सोचा अगर मामाजी की approch लागाई जाये तो बात बन सकती हैं। लेकिन उनको मनाना भी टेडी खीर ही था। फिर भी मैंने सोमवार की रात में मामाजी से फ़ोन पार जाने की permission माग ली। सुच कह रहा हूँ। उस वक़्त दिल बेइंतिहा धड़क रहा था । आगले पल क्या होगा कुछ खबर न थी। पर ये क्या ........जो सोचा उसका उल्टा हुआ। मुझे जाने की इज्जात मिल गई सिर्फ दो दिन के लिए।

मगलवार की सुबह मैंने अपना सामान तयार किया दोपहर के वक़्त 2 बजे हम निकले। ट्रेन लगभग 3:30 बजे थी। ट्रेन टाइम पर थी। भीड़ ज्यादा नहीं थी हम को बैठने की सीट मिल गई थी।

सुलतानपुर से चली ट्रेन प्रयाग (अल्लाहाबाद) 8:30 बजे रात में पहुची। ट्रेन यात्री गाड़ी थी, जो हर स्टेशन पर रूकती हैं कई बार इसे रोक क़र दूसरी ट्रेनों को क्रोस करवाया जाता था। यही कारन था जो की हम इतना लेट वहा पहुचे।

सोनू का रूम रामप्रिया कालोनी में था । जो प्रयाग स्टेशन के बिलकुल पास में हैं। स्टेशन से सीधे रूम पर पहुचे। थके होने के कारन खाना खा कर जल्दी ही सो गए।

Tuesday, March 9, 2010

सुबह सुबह की पहली किरण सी खिड़की से झाकती हुई ।

सोया था अभी तक मैं , होले से मुझे उठाती हुई ॥


पूरा दिन काम किया आराम कहाँ था एक भी पल।

थकी हुई थी बहुत वो लेकिन दिखी मुझे मुस्काती हुई ॥


पुरे दिन भूखी रही मेरे लिए उपवास किया ।

करवा चौथ की रात चाँद में मेरा अक्श निहारती हुई॥


बहुत थी भोली बीबी मेरी बड़ी थी नादान ।

चल पड़ी हैं संग मेरे अपने ख्वाब भुलाती हुई ॥


कुछ खो गया था उसका परेशां थी बहुत।

पूछा मैंने तो कुछ न बोली अपनी आँखे चुरती हुई ॥


Thursday, March 4, 2010

पार्ट-3

मुझे ये सब करते देख जेनेलिया हंस पड़ी और अंदर चली गई। जब वो आई चाभियो के साथ तो भी वो मुस्कुरा ही रही थी। चाभियाँ मुझे देने लगी। मैंने हाथ आगे बढ़ा दिए चाभिया लेने के लिए। लेकिन मैंने चाभियाँ पकड़ नहीं पाया और चाभियाँ हाथ से छुट कर नीचे गिर गई। चाभियाँ उठाने के लिए नीचे झुका; ठीक उसी टाइम जेनेलिया भी झुकी और हमारे सर एक दुसरे से टकरा गए, एक साथ चाभियाँ पकड़ ली जिसकी वजह से हमारे हाथ भी छू गए। उसके हाथ की छुवन ने मेरे पुरे बदन में अजीब सी सिहरन दौड़ गई।
ये नजारा वह सभी लोगो ने देखा।
चाभियाँ लेकर मैं अपने रूम की तरफ हो गया और पीछे से मरियम ने दरवाजा बंद कर लिया।
"अरे निहाल, क्या हो गया था, अजीब अजीब हरकतें कर रहा था तू" श्याम ने कहा।
मैं कुछ न बोला और अपने रूम का दरवाजा खोला दिया और अंदर चला गया।
*********
अगले दिन मैंने ऑफिस के निकला तो देखा के जेनेलिया भी अपने रूम से निकल रही हैंअपने कुत्ते के साथ। हाँ उसके पास एक कुत्ता भी था जिसे वो सुबह शाम घुमाने ले जाया करती थी।
मेरी नज़रे उसकी नजरो से मिली। मैंने आँखों ही आँखों में कुछ कहना चाह रहा था। पर उसकी नज़रे सामान्य ही रही। जैसे वो खुद में ही खोई हुई हो।
उसका खुद में ही खोया रहना मुझे पसंद था। जी करता था की ऑफिस न जा कर उसे ही देखता रहू।
हमेशा सोचता रहता था की उससे बात कैसे करू। मैंने कभी दिल फेक आशिक किस्म का लड़का था पर न जाने मेरी आशिकी उसे देखते ही कहा घूम हो गई थी।